google-site-verification=YVHN2dtbiGoZ5Ooe2Ryl06rtke7l76iOlFsnK7NUB_U
Shri Ram
Photo Source - Freepik

Shri Ram: हिंदू धर्म में भगवान राम का दर्जा बहुत ऊपर माना जाता है, जिन्हें श्री रामचंद्र के नाम से भी जाना जाता है। उन्हें हिंदू धर्म के प्रमुख देवताओं में से एक माना जाता है। भगवान राम को भगवान विष्णु का सातवां अवतार कहा जाता है। अक्सर भगवान राम को मर्यादा पुरुषोत्तम के रूप में संदर्भित किया जाता है। जिसका मतलब यह है कि सामान्य पुरुषों में सर्वश्रेष्ठ, जो कर्म, गरिमा और अनुकरणीय आचरण के उत्तम गुणों के अवतार को दिखाता है। आज हम आपको समझाने की कोशिश करेंगे कि भगवान राम को मर्यादा पुरुषोत्तम क्यों कहा जाता है, आईए विस्तार से समझते हैं-

मर्यादा पुरुषोत्तम Shri Ram का अर्थ-

सबसे पहले बात करें मर्यादा पुरुषोत्तम के अर्थ की तो मर्यादा पुरुषोत्तम दो शब्दों मर्यादा और पुरुषोत्तम से मिलकर बना है। मर्यादा का हिंदी शब्द में मतलब गरिमा या महिमा है। यह सभी परिस्थितियों में किसी के नैतिक मूल्यों के पालन को दर्शाता है। वहीं पुरुषोत्तम दो शब्द पुरुष और उत्तम से मिलकर बना है, जिसका मतलब होता है गुणों से पुरुषों में सर्वोच्च।

Shri Ram मर्यादा पुरुषोत्तम क्यों-

भगवान राम को मर्यादा पुरुषोत्तम क्यों कहा जाता है। इसे समझने के लिए उनके जीवन के बारे में जानना होगा। भगवान राम का जीवन कर्तव्य, धार्मिकता और सत्य के गुना से भरपूर है। उनकी उपाधि मर्यादा पुरुषोत्तम न सिर्फ एक नाम है। बल्कि उन आदर्श मानवीय गुणों की याद दिलाती है, जिससे हर कोई प्रेरित होता है। राम की कहानी हमें सम्मान पूर्वक जीवन जीने, बातचीत में दयालुता दिखाने और अन्य कार्यों में सत्य निष्ठा रखने के लिए प्रोत्साहित करती है। उनकी कहानी के माध्यम से प्रेम न्याय और कर्तव्य के महत्व को सीखने मिलता है। भगवान राम मानव इतिहास में अनुकरणीय आचरण का एक कालातीत प्रतीक बन जाते हैं।

कर्तव्य-

भगवान राम के रूप में कर्तव्य की बात की जाए, तो भगवान राम ने अपने पिता राजा दशरथ के रानी कैकई को दिए वादे को निभाने के लिए 14 वर्ष तक वनवास में स्वीकार कर लिया, जो कि परिवार और कर्तव्य के प्रति उनकी अटूट प्रतिबद्धता को दर्शाता है। वहीं सिंहासन के उत्तराधिकारी होने के बावजूद भी उन्होंने अपने भाई से गहरी प्रेम और पारिवारिक प्रेम को दर्शाते हुए, उन्होंने अपने भाई भारत को शासन करने दिया।

अपनी पत्नी देवी सीता का सम्मान-

वहीं एक पति के रूप में भगवान राम ने अपनी पत्नी देवी सीता का सम्मान बनाए रखने के लिए राक्षस राजा रावण को ढूंढ कर उन्हें मार गिराया। वही भगवान राम ने अपने राज्य की खुशी और सुरक्षा को निश्चित करने के लिए अपने परिवार की सुख समृद्धि को छोड़ दिया। एक ऐसे आदर्श शासन के रूप में जो अपनी प्रजा के कल्याण को लिए व्यक्तिगत खुशी से भी ऊपर रखते हैं। एक मित्र के रूप में भगवान राम की सुग्रीव, हनुमान और अन्य लोगों के साथ मित्रता उनकी सामाजिक स्थिति की परवाह किए बिना आपसी सम्मान पर आधारित है।

ये भी पढ़ें- Astro Tips: शाम होने पर भूल से भी ना करें ये काम, घर से चली जाएगी लक्ष्मी

तिक आध्यात्मिक कानून के रक्षक-

वहीं रावण को हराकर भगवान राम ने निर्देशों की रक्षा की और नैतिक आध्यात्मिक कानून के रक्षक के रूप में अपनी भूमिका का प्रदर्शन किया। इन सभी गुणों के चलते ही भगवान राम को मर्यादा पुरुषोत्तम राम कहा जाता है। भगवान राम का यह रूप इंसान के रूप में धरती पर हुआ था। इसीलिए हर इंसान को भगवान राम के इस आचरण को अपनाने की कोशिश करनी चाहिए, जिससे वह अपनी जिंदगी में हमेशा सफल रहे और अपने परिवार के बारे में सोचे।

ये भी पढ़ें- Astro Tips: दान में कभी ना दें ये चीज़ें, पुण्य की जगह होगा नुकसान

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *