google-site-verification=YVHN2dtbiGoZ5Ooe2Ryl06rtke7l76iOlFsnK7NUB_U
One Selfie
Photo Source - Twitter

One Selfie: हाल ही अमेरिका से एक महिला का हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। जिसमें एक लड़की को अपने ब्रेन ट्यूमर के बरे में एक सेल्फी के ज़रिए पता चला। जी हां आपने बिल्कुल सही पढ़ा एक सेल्फी के ज़रिए उस महिला को पता चला की उसके ब्रेन में ट्यूमर है। अब आप सोच रहे होंगे की एक सेल्फी से किसी के ब्रेन ट्यूमर के बारे में कैसे पता चल सकता है तो चलिए जानते हैं कि आखिर वह महिला कौन है और उसे अपने ब्रेन ट्यूमर के बारे में एक सेल्फी के ज़रिए कैसे पता चला-

अमेरिका में रहने वाली एक महिला-

यह कहानी अमेरिका में रहने वाली एक महिला ट्राउटवाइन की है। ट्राउटवाइन को घूमना बहुत पसंद है और वह आए दिन कहीं ना कहीं जाकर यात्रा करती रहती है। इसके साथ ही वह यात्रा की याद को कैमरे में कैद करती है और सेल्फी भी लेती हैं। ऐसे ही एक बार ट्राउटवाइन अपने चचेरे भाई से मिलने के लिए NYC (New York City) गई थी। वह एक भी एक्सपलोरर हैं और वह तभी अपने भाई केसाथ डाुनटाउन एक्पलोर पर निकली।

रॉक पैलेस सेंटर-

मिड टाउन की खोज के दौरान वह रॉक पैलेस सेंटर में रुके। उसके बाद राउंड पर रिफ्लेक्टिंग पुल और एफबीडी के पास उन्होंने एक सेल्फी ली। जब उन्होंने अपनी सेल्फी को ध्यान से देखा तो उसमें उन्होंने देखा की उनकी पलके थोड़ी झुकी हुई थी। सेल्पी में अपनी झुकी हुई पलकों को देखकर ट्राउटवाइन को कुछ ठीक नहीं लगा। जब वह घर लौटी तो उसने अपने न्यूरोलॉजिस्ट से इसके बारे में जिक्र किया।

सिर्फ एक सेल्फी-

ट्राउटवाइन ने स्थानीय समाचार आउटलेट फॉक्स को बताया किसी भी अन्य सेल्फी की तरह है। यह सिर्फ एक सेल्फी थी। लेकिन इसके बारे में एख चीज ने मेरा ध्यान खींचा। ट्राउटवाइन ने घर लौटने पर तुरंत डॉक्टर से बात की जिसके बाद ट्राउटवाइन का एमआरई किया गया। जिसमें उन्हों एक चौकाने वाली बता पता चली कि उनके ब्रेन में एक ट्यूमर है और वह ट्यूमर आक्रमक रुप से बढ़ रहा है।

ये भी पढ़ें- Pakistan में सेना की चौकी पर हुआ आतंकवादी हमला, 7 सैनिक हुए शहीद

चुनौतियों का सामना-

ट्यूमर के बारे में पता चलने पर ट्राउटवाइन वह इसके इलाज के लिए कैंसर प्रॉफिट सेंटर तक चली गईं। जहां ट्यूमर को हटाने के लिए उनकी सर्जरी हुई। उसके बाद अतिरिक्त क्रियाएं और विकिरण चिकित्सा की गई। उन्होंने बताया कि उन्हें संज्ञानात्मक चुनौतियों और स्मृतियो का सामना करना पड़ा. जो अविश्वसनीय रूप से कठिन थे। ट्राउटवाइन ने अपने सामने आने वाली बाधाओं पर विचार करते हुए कहा कि मैंने उस दौरान खुद पर अनुग्रह करना सीखा।

ये भी पढ़ें- भारत ने किया Free Trade Agreemant पर हस्ताक्षर, ये चीज़ें हो जाएंगी सस्ती

तो इ तरह से सिर्फ एक सेल्फी के ज़रिए ट्राउटवाइन को अपने ब्रेन ट्यूमर के बारे में पता चला। वह एक सेल्फी उन्हें उनके इलाज के लिए कैंसर हैल्प सेंटर तक ले गई।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *