google-site-verification=YVHN2dtbiGoZ5Ooe2Ryl06rtke7l76iOlFsnK7NUB_U
Muft Bijli
Photo Source - Twitter

Muft Bijli: गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 1 करोड़ परिवारों को लाभ पहुंचाने के लिए 75 करोड रुपए की सौर ऊर्जा योजना को मंजूरी दे दी है। केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने पीएम सूर्य घर मुक्त बिजली योजना की घोषणा करते हुए, इस योजना के तहत लाभार्थियों को 300 यूनिट मुफ्त बिजली देने की बात कही है। आज की कैबिनेट बैठक पीएम मोदी के नेतृत्व में हुई। केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि पीएम सूर्य घर मुफ्त बिजली योजना को आज मंजूरी दे दी गई है।

सौर ऊर्जा पारिस्थितिक तंत्र-

उन्होंने कहा कि यह सौर ऊर्जा पारिस्थितिक तंत्र को मजबूत करेगा। अनुमान है की यह योजना विनिर्माण, लॉजिस्टिक्स बिक्री, आपूर्ति श्रृंखला स्थापना और अन्य सेवाओं में लगभग 17 लाख प्रत्यक्ष नौकरियां पैदा करेगी। कार्यक्रम के प्रमुख तत्वों में आवासीय क्षेत्र सौर परियोजनाओं के कार्य अनुमान के लिए विशेष रूप से नामित केंद्रीय वित्तीय सहायता के रूप में केंद्र सरकार द्वारा प्रदान की गई, वित्तीय सहायता शामिल है।

प्रेस विज्ञाप्ति-

सरकार की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञाप्ति में कहा गया। इसकी अधिकतम सीमा 3 किलोवाट होगी। 1 किलोवाट प्रणाली के लिए 30,000 की सब्सिडी, 2 किलोवाट प्रणाली के लिए 60,000 और 3 किलोवाट या उससे ज्यादा के लिए 78,000 की सब्सिडी होगी। राष्ट्रीय पोर्टल के माध्यम से परिवार सब्सिडी के लिए आवेदन कर सकते हैं और छत पर और ऊर्जा स्थापित करने के लिए एक उपयोग विक्रेता का चयन करने में सक्षम है।

ये भी पढ़ें- Himachal Pradesh में BJP के 15 विधायकों के निलंबित होने से कैसी स्थिति..

राष्ट्रीय पोर्टल पर जाकर लाभ, कैलकुलेटर, विक्रेता, रेटिंग आदि जैसी जानकारी प्रदान करके परिवारों को उनके निर्णय लेने की प्रक्रिया में सहायता करेंगे। सरकार का कहना है कि परिवार 3 किलोवाट तक के आवासीय आरटीएम सिस्टम की स्थापना करने के लिए वर्तमान में लगभग 70% ब्याज उत्पादकों का इस्तेमाल करने में सक्षम होंगे।

सनरूफ टॉप सोलर-

सरकारी विज्ञाप्ति में यह भी कहा गया कि ग्रामीण क्षेत्रों में सनरूफ टॉप सोलर को अपनाने के लिए रोल मॉडल के रूप में कार्य करने के लिए देश के प्रत्येक जिले में एक मॉडल सोलर विलेज विकसित किया जाएगा। यह योजना नवीकरणीय ऊर्जा सेवा कंपनी आधारित मॉडलों के लिए भुगतान सुरक्षा के लिए एक घटक के साथ-साथ आरसीएस में नवीन परियोजनाओं के लिए एक फंड प्रदान करती है।

ये भी पढ़ें- BJP का बड़ा दावा, कहा कर्नाटक विधानसभा में लगे Pakistan Zindabad..

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *