google-site-verification=YVHN2dtbiGoZ5Ooe2Ryl06rtke7l76iOlFsnK7NUB_U
Goa Ban Gobi Manchurian
Photo Source - Google

Goa Ban Gobi Manchurian: गोभी मंचूरियन एक फ्यूजन डिश है, जो की मसालेदार लाल सॉस में लिपटी हुई फूल गोभी के फूलों के लिए जानी जाती है। जिसे बहुत से लोग खाना पसंद करते हैं। लेकिन हाल ही में गोभी मंचूरियन पर प्रतिबंध लगाने के लिए गोवा के एक शहर ने कदम उठाया है। गोबी मंचूरियन पसंदीदा होने के बावजूद भी सिंथेटिक रंगों के इस्तेमाल और स्वच्छता को ध्यान में रखते हुए इस व्यंजन को दावतों और स्टोल पर बैन कर दिया गया है। इस बैन के बारे में बात करते हुए शहर के नगर निगम की अध्यक्ष प्रिया विशाल ने का कहना है कि पार्षदों ने कहा कि ऐसे विक्रेता स्वच्छ परिस्थितियों में काम नहीं करते हैं और गोभी मंचूरियन बनाने के लिए सिंथेटिक रंगों का भी इस्तेमाल किया जाता है।

पहली प्रतिबंध की घटना नहीं-

यही वजह है कि हमें इसकी बिक्री पर बैन लगाना होगा। इस बैन का सुझाव कथित तौर पर पिछले महीने बागेश्वर मंदिर भोज के दौरान पार्षद तारक अलोकर द्वारा दिया गया था। यह गोवा में पहली प्रतिबंध की घटना नहीं है। रिपोर्ट से पता चलता है कि पहले 2022 में श्री दामोदर मंदिर में वास्को मेले में प्रशासन ने नगर परिषद को गोबी मंचूरियन स्टोलों की उपस्थिति को सीमित करने के निर्देश दिए थे। निर्देश को जारी करने से पहले एफडीए ने इसकी व्यापक उपलब्धता को कंट्रोल करने के प्रयासों के तहत इन स्टॉल पर छापेमारी भी की थी।

घटिया सॉस का इस्तेमाल-

बैन के बारे में बात करते हुए एफडीए के वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि विक्रेता पर घटिया सॉस का इस्तेमाल करने के लिए जुर्माने भी लगाए गए थे। लेकिन वह उपभोग के लिए लायक नहीं थे। वह दिखाते तो अच्छी सॉस हैं। लेकिन गोभी मंचूरियन को तैयार करने के लिए घटिया सॉस का इस्तेमाल करते हैं। वह आटे में कुछ प्रकार के पाउडर और बैटर के साथ कॉर्न स्टार्च का इस्तेमाल करते हैं। जिसमें डालने के बाद फूलगोभी के फूल लंबे समय तक कुरकुरे बने रहते हैं।

ये भी पढ़ें- Chandigrah Mayor Election: सुप्रिम कोर्ट ने कहा ये लोकतंत्र की हत्या..

सड़क विक्रेता ने विपरीत भावना व्यक्त की-

अधिकारियों के मुताबिक यह पाउडर एक प्रकार का रीठा है, जिसका इस्तेमाल कपड़े धोने में किया जाता है। यही वजह है कि विक्रेता यात्रा में इस व्यंजन को इतना सस्ता बेचते हैं। जबकि मां पूसा नगर परिषद गोभी मंचूरियन की बिक्री को रोकने और प्रबंध करने के उपाय को लागू कर रही है। वहीं सड़क विक्रेता ने विपरीत भावना व्यक्त की है। अंग्रेजी समाचार वेबसाइट टाइम्स आफ इंडिया के मुताबिक, विक्रेताओं का कहना है कि हमें अधिकारियों से गोबी मंचूरियन न बेचने के निर्देश मिले हैं। उनका कहना है कि कुछ व्यक्तियों के वजह से नगरपालिका सभी को निशाना क्यों बना रही है।

ये भी पढ़ें- APP ने दिल्ली पुलिस के नोटिस पर कही बड़ी बात, कहा ‘डिलीवरी बॉय की…

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *