google-site-verification=YVHN2dtbiGoZ5Ooe2Ryl06rtke7l76iOlFsnK7NUB_U
Kaal Sarp Dosh Upay
Photo Source - Google

Kaal Sarp Dosh: ज्योतिष के मुताबिक, कालसर्प दोष बहुत ही कठिन होता है। जिसमें किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में सभी ग्रहों राहु उत्तरी नोब और केतु दक्षिण नोब के बीच स्थित होती है। ऐसा कहा जाता है कि यह जीवन में अलग-अलग प्रकार की चुनौतियों और कठिनाइयों को लेकर आता है। हालांकि कालसर्प दोष का कोई स्थाई इलाज नहीं है। वैदिक ज्योतिष कई उपचार और गतिविधियां प्रदान करते हैं, जिससे इसके प्रभाव को कम किया जा सकता है। राहु और केतु के बुरे प्रभाव होम, राहु केतु पूजा करके, राहु केतु जाप का आयोजन करके दूर किया जा सकता है, जो एक प्रशिक्षित पुजारी द्वारा होता है। पूजा में प्रभाव को कम करने के लिए मंत्र जप, प्रसाद और प्रार्थना शामिल है। ऐसा कहा जाता है कि भगवान शिव में केतु और राहु के प्रभाव का प्रतिकार करने की क्षमता है।

भगवान शिव की नियमित भक्ति-

भगवान शिव की नियमित भक्ति से कालसर्प दोष के हानिकारक प्रभाव को कम करने में मदद मिलती है। इसके अलावा आप सोमवार को खास तौर पर शिवजी की पूजा करना शुभ माना जाता है। जिन लोगों की कुंडली में कालसर्प योग होता है उनके लिए कालसर्प दोष पूजा करना जरूरी होता है। यह कई मंदिरों जैसे उज्जैन, प्रयागराज, श्री काल हस्ती और कई अन्य प्रमुख स्थानों पर किया जा सकता है।

विशेष मंत्रों का जाप-

लोगों की कुंडली में केतु और राहु से संबंधित विशेष मंत्रों का जाप करने से नकारात्मकता को काम किया जा सकता है। ओम भ्राम भ्रीं भ्रोम सह राहवे नम: राहु के लिए सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाला मंत्र है और ओम श्राम श्रीम श्रोम सह केतवे नमः केतु के लिए सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाला मंत्र है। इन मंत्रों का नियमित रूप से पाठ राहु या केतु काल के दौरान सहायक हो सकता है।

राहु और केतु से संबंधित रत्न-

इसके अलावा ऐसा माना जाता है कि राहु और केतु से संबंधित रत्न जैसे केतु के लिए लहसुनिया और राहु के लिए हेसोनाइट पहनने से उनके विरोधी ऊर्जा संतुलित हो जाएंगे। हालांकि कोई भी रत्न पहनने से पहले किसी ज्योतिषी से बात करना जरूरी है। क्योंकि कुछ लोग अपनी जन्म कुंडली के कारण इसके लिए उपयुक्त नहीं हो सकते हैं। दोष के प्रभाव को कम करने के लिए धर्मार्थ कार्य करने और कम भाग्यशाली लोगों को देने से प्राप्त किया जा सकता है।

ये भी पढ़ें- Maha Shivratri Upay: ये चमत्कारी इच्छा पुर्ति उपाय भगवान शिव के हर..

उपवास-

विशेष रूप से शनिवार पर लोहे की वस्तुएं, सरसों का तेल या काले तिल को चढ़ाना लाभकारी माना गया है। ऐसा कहा जाता है कि राहु और केतु से जुड़े दिनों जैसे शनिवार, मंगलवार को उपवास करने से यह ग्रह शांत होते हैं और दोष के प्रभाव कम हो जाते हैं। उपवास करने का एक तरीका यह है कि आप अपने सेवन को दूध और फलों तक सीमित रखें या आप विशिष्ट वस्तुओं से पूरी तरह परहेज कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें- Spritual Mantra: ये 6 आध्यात्मिक मंत्र बदल देंगे आपका जीवन, सफलता..

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *