google-site-verification=YVHN2dtbiGoZ5Ooe2Ryl06rtke7l76iOlFsnK7NUB_U
Soler Car
Symbolic Picture (Source - Google)

Soler Car: पूरी दुनिया नई तकनीक से कदम से कदम मिलाकर चल रही है, एक के बाद एक नई तकनीक बनाने वाले यह प्रश्न करता रहता है कि आखिर इसके बाद क्या? रोज नए परिवर्तन से वाहन उद्योग को भी इन्हीं नए प्रयोगों से संजीवनी मिलने वाली है‌। ना पेट्रोल-डीजल, ना ही बैटरी की जरूरत होगी, अब सौर ऊर्जा से बने वाहन को बाजार में लॉन्च करने की तैयारी हो रही है और यह काम कर दिखाया है, देश के प्रमुख औद्योगिक संस्थान में शुमार एनआईटी जमशेदपुर के विद्यार्थी ने। सौर ऊर्जा से चलने वाले इस वाहन के उद्योग भविष्य को लेकर NIT के छात्रों की टीम काम कर रही है। इसके लिए कोशिशें की जा रही है कि इलेक्ट्रिक कार के इस दौर में सौर ऊर्जा संचालित वाहन बाजार में नए समीकरण तैयार करें। खुद NIT जमशेदपुर के छात्र कंपनी बनाकर इसे बाजार में उतारने की तैयारी में लगे हुए हैं।

25 किलोमीटर प्रति घंटा-

NIT के छात्रों की ओर से तैयारी सौर ऊर्जा संचालित वाहन की रफ्तार 25 किलोमीटर प्रति घंटा होगी। इससे रूफ यानी कि वाहन की ऊपरी सतह पर सोलर पैनल लगाए जाएंगे। जिससे वह हमेशा चार्ज होती रहेगी। इसे चार्ज करने के लिए बिजली की जरूरत नहीं होगी। सौर ऊर्जा से बैटरी चार्ज होती रहेगी, छात्रों के मुताबिक वर्तमान में जो इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में मौजूद हैं, उन्हें बिजली की जरूरत होती है और कहीं ना कहीं बिजली का उत्पाद कार्बन उत्सर्जन का कारण होता है। लेकिन सौर ऊर्जा से चलने वाला यह वाहन पूर्ण रूप से ग्रीन व्हीकल होगा। जिसे चलने के लिए किसी अन्य स्त्रोत की जरूरत नहीं पड़ेगी।

सोलर इलेक्ट्रॉनिक वाहन निर्माण कंपनी-

इस टीम में काम करने वाले विद्यार्थियों की माने तो इस प्रोजेक्ट में बहुत सालों से इस प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं। कई बैच के विद्यार्थी इस हाइब्रिड सोलर वाहन को तैयार करने में अपना योगदान दे रहे हैं। अब रेवांता के प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के जमशेदपुर आधारित सोलर इलेक्ट्रॉनिक वाहन निर्माण कंपनी बनाने की योजना है। प्रोजेक्ट के तहत चार पहिया इलेक्ट्रॉनिक वाहन बाजार में सोलर इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में उतार कर ज्यादा से ज्यादा मार्केट शेयर लेने की है।विद्यार्थियों ने इसके लिए कंपनी के पहले साल के प्रॉफिट का आकलन भी कर लिया है। जिसके मुताबिक पहले वर्ष कंपनी 30 लाख रुपए की कमाई कर सकती है।

ये भी पढ़ेंiPhone: Apple अपने यूज़र्स के लिए लाया वॉइस क्लॉन फीचर, जानें डीटेल

106 नेशनल पार्क व 567 वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी-

सोलर इलेक्ट्रिक वाहन को मार्केट में उतारने के लिए विद्यार्थियों ने देश के 106 नेशनल पार्क व 567 वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरी को टारगेट किया है। इसमें सफारी के लिए पहले चरण में इस वाहन को बेचने की तैयारी है। छात्रों का कहना है कि इस प्रोजेक्ट से पर्यावरण संरक्षण की दिशा में क्रांतिकारी बदलाव आएगा। प्रारंभिक स्तर पर इसे सुपारी के लिए बाजार में उतारा जाएगा। इसके बाद इसकी तकनीक को रिमाइंड कर बाकी सेक्टर के लिए भी तैयार किया जाएगा। इस हाइब्रिड सोलर वाहन को बनाने के लिए 30 विद्यार्थियों की टीम काम कर रही है।

ये भी पढ़ें- Poco के इस फोन पर मिल रहा है भारी डिस्काउंट, कभी नही हुआ इतना सस्ता

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *