google-site-verification=YVHN2dtbiGoZ5Ooe2Ryl06rtke7l76iOlFsnK7NUB_U
Breaking News
Photo Source - Twitter

Breaking News: मंगलवार को लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण के वोट थे, जिसमें बहुत से लोगों ने वोट डालें। इसके साथ ही तीसरे चरण के चुनाव का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। मतदान के दौरान भाजपा के जिला पंचायत सदस्य जिनका नाम विनय मेहर है, वह वोट डालने के लिए अपने नाबालिक बच्चों को अपने साथ लेकर गए। उन्होंने पोलिंग बूथ पर जाकर खुद ना मतदान नहीं किया, बल्कि उन्होंने अपने नाबालिक छोटे से बेटे से ईवीएम का बटन दबवाया है। इसके अलावा उन्होंने यह अपने तक ही सीमित नहीं रखा, इसका एक वीडियो भी बनाया और सोशल मीडिया पर शेयर भी किया।

Breaking News सोशल मीडिया पर हड़कंप-

जिसके बाद से सोशल मीडिया पर इसे लेकर हड़कंप मच गया। ध्यान देने वाली बात यह है कि बोलिंग बूथ पर वोट डालते समय मोबाइल ले जाने पर बैन लगा हुआ है। यह घटना बेरसिया विधानसभा क्षेत्र की है जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। भाजपा सदस्य विनय मोहर ने खुद ही इसे फेसबुक पर पोस्ट किया। लेकिन इस मामले पर विवाद के बाद वीडियो को तुरंत डिलीट कर दिया गया है।

Breaking News चुनाव प्रक्रिया के साथ खिलवाड़-

इस वीडियो को देखने के बाद कांग्रेस ने बीजेपी पर चुनाव प्रक्रिया के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाया। इसके अलावा चुनाव आयोग से सवाल भी किया है, कि इस मामले पर कार्यवाही की जाएगी भी या नहीं। सोशल मीडिया सलाहकार व कांग्रेस नेता पीयूष बबेले ने एक्स पर एक वीडियो को शेयर करते हुए लिखा, की बीजेपी ने चुनाव को खिलवाड़ बनाया हुआ है। अब भोपाल में बीजेपी के जिला पंचायत सदस्य विनय नाबालिक बेटे से वोट डलवाया।

फेसबुक पर शेयर-

इसके साथ ही वोट डालते समय विनय में विनय ने वीडियो भी बनाया और फेसबुक पर शेयर भी कर दिया। इसके ऊपर कोई कार्यवाही की जाएगी या नहीं, मामले में संज्ञान आने के बाद से ही बीजेपी कलेक्टर व जिला निर्वाचन अधिकारी कौशलेंद्र विक्रम ने जांच के आदेश दिए हैं और एसडीएम आर्य को इसकी जांच की जिम्मेदारी सौंपी गई है। उन्होंने कहा कि इस मामले पर कार्यवाही की जाएगी।

ये भी पढ़ें- Rahul Gandhi अडानी और अंबानी को लेकर पीएम मोदी के सवाल का दिया जवाब, कहा..

सोशल मीडिया पर बहुत से सवाल-

इस वीडियो के वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर बहुत से सवाल खड़े हो गए हैं। कानून के मुताबिक ना तो पोलिंग बूथ पर मोबाइल फोन ले जाना अलाउड है और ना ही नाबालिक को वोट डालने की इजाजत होती है, तो फिर ऐसा कैसे हो गया। उन्होंने एक पार्टी से जुड़े होने के बावजूद भी यह बड़ी चुक कैसे की। वहीं कुछ लोगों का कहना है कि चुनाव आयोग क्या कर रहा है, क्या चुनाव आयोग इस पर वायवाही करेगा या नहीं।

ये भी पढ़ें- Delhi NCR के लोगों को जल्द मिलेगी चिलचिलाती गर्मी से राहत, बारिश के..

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *